देवउठनी एकादशी के बाद शुरू होंगे सभी मांगलिक कार्य 

22 नवंबर को देवउठनी एकादशी के बाद मांगलिक कार्य शुरू हो जायेंगे! इसके बाद इस साल आठ शुभ मुहूर्त है जबकि अगले साल 2016 में कुल सिंहस्थ के चलते 28 मुहूर्त होंगे।  हमेशा अबूझ मन जमे वाला मुहूर्त जो देवउठनी ग्यारस है उस दिन मांगलिक कार्य नहीं होंगे।
ज्योतिषियों और विद्वानो की माने तो इस बार देवउठनी ग्यारस पर विवाह के  लिए  गृह नक्षत्र अनुकूल नहीं है।

देवउठनी एकादशी के बाद शुरू होंगे सभी मांगलिक कार्य
22 नवंबर को देवउठनी एकादशी के बाद मांगलिक कार्य शुरू हो जायेंगे! इसके बाद इस साल आठ शुभ मुहूर्त है जबकि अगले साल 2016 में कुल सिंहस्थ के चलते 28 मुहूर्त होंगे।  हमेशा अबूझ मन जमे वाला मुहूर्त जो देवउठनी ग्यारस है उस दिन मांगलिक कार्य नहीं होंगे।
ज्योतिषियों और विद्वानो की माने तो इस बार देवउठनी ग्यारस पर विवाह के  लिए  गृह नक्षत्र अनुकूल नहीं है।
पंडित नवल किशोर जी के अनुसार 22 नवंबर को भगवान के शयन से उठने के बाद विवाह योग्य मुहूर्त सिर्फ 26 ,27 नवंबर को है।
अगले महीने दिसम्बर में 4 ,7, 8, 12, 13, 14 को है गुरु का सिंह राशि में होने के कारण लोगों के मन में संशय बना हुआ है।
अगर विवाह मुहूर्त योग्य बनाया जाता है तो इसके लिए गुरु के जप, दान और पूजा करने के बाद अनुकूल बनाया जा सकता है।

साल 2016 में कुल 28 मुहूर्त है

जनवरी माह में  कुल  5 मुहूर्त         -15 ,19 ,20 ,20 और 29 जनवरी को
फरवरी माह में  कुल  4 मुहूर्त          –  4 ,5 ,22 और  24 फरवरी को
मार्च  माह में कुल  3  मुहूर्त             –  2 ,5 और 10 मार्च  को
अप्रैल माह में  कुल  9  मुहूर्त           – 16 ,17 ,18 ,19 ,20 22 ,23 ,26 और 27 अप्रैल
नवंबर माह में  कुल  3 मुहूर्त           – 16 ,23 और  24 नवंबर को
दिसंबर  माह में कुल  5  मुहूर्त         – 1 ,3 ,8 ,9 और 12  दिसंबर को

Latest News