नई दिल्ली: इन दिनों देश में महंगाई अपनी चरम सीमा पर है। चीज़ के दाम काफी तेज़ी से बढ़ते जा रहे है। पेट्रोल डीजल से लेकर के घर में इस्तेमाल होने वाला राशन भी काफी महंगा होता जा रहा है। इस वजह से लोगों को काफी परेशानियों का सामना करना पड़ता है। इस बढ़ती महंगाई की वजह से लोगों की आर्थिक स्तिथि से काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है।

मगर आपको बता दे की इन दिनों उपभोग्ताओ की मांग के चलते सरसो के बीज और सरसों के तेल के दामों में गिरावट हुई है। सरसों मिल डिलीवरी 42 प्रतिशत तेल कंडीशन के दाम 50 रुपए से घटकर 6825 रुपए प्रति क्विंटल हो गए है। एगमार्क सरसों तेल में भी 20 से 25 रुपए प्रति टिन दाम गिर गए है। जानकारों का कहना है कि सर्कार द्वारा बढ़ती महंगाई को देखते हुए यह कदम उठाया गया है जिसके कारण तेल के दामों में थोड़ी गिरावट हुई है। बंगाल एवं बिहार की कमजोर परिश्थिति को देखते हुए राजस्थान की मंडियों में सरसों के तेल की कीमत को कम किया गया है।

आपको बता दे की बिजनेसमैन अनिल चतर ने कहा कि देश की विभिन्न मंडियों में सरसों सीड की दैनिक आवक घटकर दो लाख बोरी के आसपास रह गई है। गौर करने वाली बात यह है कि पिछले साल देश में सरसों का उत्पादन 86 लाख टन के आसपास हुआ था। जिसके कारण विदेशी खाद्य तेलों की मांग बढ़ गई थी। सरकारी हस्तक्षेप एवं मांग को देखते हुए आने वाले समय में सरसों तेल की कीमतों में बढ़ोतरी होने की कोई सम्भावना नहीं है।

कितने रूपए लीटर तक घटे दाम
आपको बता दे की आम आदमीं को त्योहारों के सीजन में तेल के बढ़ते दामों से थोड़ी राहत मिल सकती है। सरकार ने तेल उत्पादन की हर कंपनियों से काम से काम 10 रूपए तक की कीमत घटाने को कहा है। लेकिन हाल ही में तेलों की कीमतें 30 रुपए लीटर तक काम की गयी थी। सरकार अगर तेलों का दाम घटाने में सफल रहती है तो त्योहार के मौसम में भी इसका फायदा लोगों को मिलेगा।

खाद्य तेलों के दाम अभी भी 150 रुपए से ऊपर चल रहे हैं। मूंगफली के तेल का दाम 188 रुपए लीटर के आसपास हो सकता है। एक महीने पहले भी यह 188 रुपए लीटर था। सरसों का तेल 174 रुपए लीटर है, जो एक महीने पहले 178 रुपए था। एक बार फिर से खाने के तेल की कीमते काम हो सकती है।

सोया तेल के भाव में भी हुई गिरावट
सोया तेल की कीमत एक महीने में 10 रुपए तक काम हुई है। इसकी कीमत 166 रुपए से घटकर 158 रुपए लीटर हो गयी है। सूरजमुखी तेल का भाव इसी दौरान 186 से घटकर 171 रुपए लीटर हो गया है। इस समय विदेशी बाजारों में तेल की कीमतें काफी कम हैं। ऐसे में भारत में भी इनके दामों को काम करने की मांग की जा रही है।

Latest News