सीवी कैंडिडेट के बारे में काफी कुछ कहता है, इसलिए इसे बनाते समय कुछ ऐसी बातों का ध्यान रखना जरूरी है जो आमतौर पर लोग नजरअंदाज कर देते हैं। एक्सपट्र्स कहते हैं, आपके सीवी में हर वो जरूरी बात होनी चाहिए जो एम्प्लॉयर जानना चाहते हैं क्योंकि इंटरव्यू से पहले सीवी से ही इस बात को समझा जाता है कि कैंडिडेट को मौका देना है या नहीं। ज्यादातर कैंडिडेट्स इसे तैयार करने के लिए किसी का भी सीवी उठा लेते हैं और अपनी जानकारी से रिप्लेस कर देते हैं। जो उस कैंडिडेट के मुताबिक नहीं होता। पढ़ें, सीवी से जुड़ी जरूरी बातें..

बेवजह की डिजाइनिंग से बचें

कैंडिडेट अपनी सीवी में कई तरह की ग्राफिक और डिजाइनिंग फॉन्ट का इस्तेमाल करते हैं। वे इसे खूबसूरत बनाने की कोशिश करते हैं। ऐसा करने से बचें। एक्सपट्र्स कहते हैं, सीवी ऐसा दस्तावेज है जो आपकी बात और जानकारियों को एम्प्लॉयर तक पहुंचाने काम करता है। इसे ऐसा बिल्कुल न बनाएं जिससे उन्हें कुछ भी समझने में दिक्कत आए।

जानकारी को ऑर्गेनाइज करें

सीवी को व्यवस्थित करें। सीवी में अनुभव, शैक्षणिक योग्यता, पर्सनल इंफॉर्मेशन और स्किल हेडिंग के अंदर जो भी जानकारी दे रहे हैं। ये ऐसी होनी चाहिए कि एक बार में पढ़कर समझ आ आए। इनमें से अनुभव और वर्तमान कंपनी से जुड़ी जानकारी ऊपर रखेें।

सीवी तैयार करते समय बहुत ज्यादा फैन्सी शब्दों का प्रयोग करने से बचें। सीवी की भाषा साधारण होनी चाहिए।

सीवी तैयार करते समय यह ध्यान रखें कि आप किस इंडस्ट्री से ताल्लुक रखते हैं। उसी के मुताबिक ही इसे तैयार करें।

गलतियां बिल्कुल नहीं होनी चाहिए

सीवी बनाते समय ध्यान रखें कि बेवजह की हेडिंग और सब-हेडिंग देने से बचें। इसके अलावा सीवी पूरा बनने के बाद इसे प्रूफरीड जरूर करें। सीवी में गलतियां होने पर कैंडिडेट की छवि पर बुरा असर पड़ता है। इसे लापरवाही माना जाता है और एचआर मैनेजर ऐसे कैंडिडेट्स को इंटरव्यू के लिए बुलाने से बचते हैं। इसलिए सीवी तैयार करते समय ऐसी गलतियां करने से बचें।

जैसी इंडस्ट्री वैसा सीवी

सीवी को बनाते समय यह भी ध्यान रखें कि आप किस इंडस्ट्री से जुड़े हैं। कई ऐसी फ्री वेबसाइट्स हैं जो कैंडिडेट्स की फील्ड के मुताबिक, उन्हें सीवी बनाने में मदद करती हैं। वेबसाइट पर जरूरत के फॉर्मेट उपलब्ध होते हैं।

कम शब्दों में ज्यादा जानकारी दें

सीवी तैयार करते समय बहुत ज्यादा एडजेक्टिव्स या फैन्सी शब्दों का प्रयोग करने से बचें। भाषा साधारण होनी चाहिए और ध्यान रखें कि कम शब्दों में दी गई ज्यादा जानकारी एम्प्लॉयर को आकर्षित करती है। इसलिए सीवी में भाषा ऐसी ही होनी चाहिए। वेबवह के शब्द सीवी को जबरदस्ती लम्बा बनाते हैं और ज्यादा लम्बा सीवी होने पर नियोक्ता ज्यादा इंट्रेस्ट नहीं दिखाते।

Gold Price Today

Latest News