छत्तीसगढ़ में धरना प्रदर्शन कर रहे सतनामी समाज का गुस्सा हिंसा का रूप धारण कर चुका है। जिस वजह से धार्मिक स्तंभ को नुकसान पहुंचाने के विरोध में सतनामी समाज ने कई सरकारी दफ्तरों में आग लगा दी और आंदोलन कार्यों ने कई वाहनों को भी आग के हवाले कर दिया। इसके अलावा सरकारी कार्यालय में तौरपर के साथ ही पथराव भी किए गए।

इस हिंसा के बाद कई पुलिसकर्मी घायल हुए इसके बाद जिला प्रशासन ने आईपीसी के अंतर्गत धारा 144 को लागू कर दिया है। घटना की पूरी जानकारी मुख्यमंत्री विष्णु देव सहाय ने पुलिसकर्मी और महानिदेशक से ली।

हजारों की संख्या में प्रदर्शनकारी घुसे DM ऑफिस

पुलिस अधिकारी सदानंद कुमार ने बताया कि सतनामी समुदाय ने प्रदर्शन को लेकर पुलिस प्रशासन को लिखित प्रमाण दिया था, कि यह प्रदर्शन विरोध शांति पूर्वक होगी। लेकिन देखते ही देखते विरोध हिंसा हो गया और तकरीबन 5000 से अधिक संख्या में प्रदर्शनकारियों ने अवरोधक तोड़ दिया और पुलिसकर्मियों पर पथराव किया।

इस पत्र के बीच अधिकारियों सहित कई पुलिसकर्मी घायल हो गए इसके बाद प्रदर्शनकारी हिंसक होकर जिला अधिकारी परिषद में घुस गए, और तोड़फोड़ करने लगे। इसी बीच उनके कई फोर व्हीलर, मोटरसाइकिल और पुलिस अध्यक्ष कार्यालय की इमारत में आग लगा दी।

सोशल मीडिया पर वीडियो वायरल

इस हिंसा प्रदर्शन के बीच बनाए गए बहुत से वीडियो सोशल मीडिया पर आज के समय में ट्रेंड कर रही है। जहां देखा जा सकता है कि लगभग 50 दो पहिया वाहन और दर्जनों से अधिक कार और जिला अधिकारी कार्यालय स्थित दफ्तर समेत बिल्डिंग दूदू करके जल रही है।

हम तो तब पर हो गई जब इस आग को बुझाने वीर के बीच एक दमकल वहां पहुंची लेकिन प्रदर्शनकारियों ने उसे दमकल को भी नहीं छोड़ा। और उसे भी आज के हवाले कर दिया। वीडियो में कई प्रदर्शनकारी वहां मौजूद पुलिस से भी झड़प करते भी दिखे।

आखिर क्या है पूरा मामला

यदि आप भी सोच रहे हैं कि यह पूरा मामला क्या है आपको बता दे कि दरअसल 15 और 16 में की रात कुछ लोगों ने बलोदा बाजार जिले के गिरैदपुरी धाम में स्थित पवित्र अमर गुफा में सतनामी समाज द्वारा पूजे जाने वाले चैतन्य में तोड़ फोर कर दी थी। हमेशा से ही सतनामी समाज चैतखंब को एक पवित्र प्रतीक के रूप में पूजा कर रहे हैं।

बस यही वजह रही है कि सतनामी समाज के लोगों को जैसे ही इसके बारे में पता चला उन्होंने विरोध प्रदर्शन करना शुरू कर दिया। जिला प्रशासन से इस तौर पर को लेकर विरोध जताया और देखते ही देखते प्रदर्शन हिंसा का रूप ले लिया इसके बाद से ही यह सभी घटनाएं हो रही हैं।

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *