NEW DELHI: SOVA वायरस की एक बार फिर से वापसी हो गई है। हालांकि इस वायरस की पहचान पिछले महीने ही हो गई थी लेकिन अब एसबीआई पीएनबी जैसे कई बैंक समेत भारत सरकार भी सोवा मैलवेयर के बारे में अलर्ट जारी कर रही है। वहीं केंद्रीय साइबर सिक्योरिटी एजेंसी (सीईआरटी – इन) ने भी कुछ दिन पहले इस वायरस को लेकर एडवाइजरी जारी की है। सोवा नाम का यह वायरस भारत से पहले अमेरिका, स्पेन और रूस में भी सक्रिय रहा है। अब देश के कई बड़े बैंक SBI, PNB और Canara बैंक ने इस वायरस को लेकर चेतावनी जारी की हैं।  आइए SOVA वायरस और इससे बचने के तरीकों के बारे में जानते है।

क्या है SOVA वायरस?

SOVA एक बैंकिंग मैलवेयर है। SBI बैंक के अनुसार यह एक एंड्राइड बेस्ट ट्रोजन मैलवेयर है, जो लोगों के पर्सनल डाटा को चुराने के लिए फर्जी बैंकिंग एप्स का इस्तेमाल करता है। यह वायरस यूजर्स के क्रिडेंशियल्स को चुराता हैं। वहीं अगर यह एक बार फोन में इंस्टॉल हो गया तो इसे अनइंस्टॉल करने का भी कोई तरीका नहीं है। यह मैलवेयर आपके हर एक मैसेज, ओटीपी और ईमेल पर नजर रखता है और यह टू-फैक्टर ऑथेंटिकेशन को भी मात देने में सक्षम है।

SOVA को लेकर बैंको ने क्या कहा?

SBI ने ट्वीट कर कहा, मैलवेयर को अपनी कमाई चुराने न दें। हमेशा भरोसेमंद सोर्स से ही ऐप्स को डाउनलोड करें। सतर्क रहें। वहीं सोवा मैलवेयर को लेकर अपने ग्राहकों को सतर्क करने के लिए PNB ने भी अपनी वेबसाइट पर एक नोट जारी किया है। इस नोट में लिखा है की, “इस प्रकार के मैलवेयर अधिकतर एंड्रॉयड डिवाइस में फिशिंग मैसेज अटैक के जरिए पहुंचते हैं। फोन में एक बार इंस्टॉल हो जाने के बाद यह फोन में मौजूद सभी एप्स की जानकारी और डिटेल (लॉग) को हैकर्स तक भेजता है, इसके बाद हैकर C2 (कमांड एंड कंट्रोल सर्वर) के माध्यम से ऐप को कंट्रोल करता है।”

SOVA से बचने का तरीका

जैसा कि हमने आपको ऊपर बताया कि एक बार यह मालवेयर आपके स्मार्टफोन में इंस्टॉल हो जाए तो उसके बाद स्कोर आनंद स्टॉल करना मुश्किल है इसी के चलते से बचने का सिर्फ एक ही तरीका है, वह है सावधानी। इससे बचने के लिए केवल ऑफिशियल ऐप स्टोर से ही ऐप को डाउनलोड करें। अनजान लिंक पर क्लिक करने से बचें।

इसके अलावा किसी भी तरह के ऐप को डाउनलोड करने से पहले उसके रिव्यूज को जरूर चेक करें। एप्स को परमिशन देते समय भी ध्यान दें की आप किन-किन चीजों की परमिशन इस ऐप को दे रहें है। वहीं यह भी चेक करें कि आपका एंड्राइड फोन लेटेस्ट सिक्योरिटी अपडेट के साथ है या नहीं। About device के सॉफ्टवेयर अपडेट सेक्शन में जाकर आप एंड्रॉयड सिक्योरिटी और पैच अपडेट चेक कर सकते है। यदि फोन अपडेट नही है तो इसे तुरंत अपडेट करें।

Latest News