आइटी सेक्टर में कॅरियर बनाना चाहते हैं, तो सिर्फ टेक्निकल नॉलेज का होना जरूरी नहीं, दूसरी कई खूबियां भी एक कर्मचारी में होनी जरूरी है। आइटी कंपनियां रिक्रूटमेंट के समय कैंडिडेट्स की कुछ स्किल्स को जांचती हैं और कुछ स्किल्स वहां पर आगे ले जाने में मदद करती हैं, जानिए इनके बारे में…

नौ करियां देने के मामले में प्राइवेट सेक्टर में आइटी सेक्टर अभी भी सबसे आगे है। एक सर्वे के मुताबिक, २०२५ तक आइटी फील्ड में नौकरियों का ग्राफ और बढ़ेगा। यहां मौके तो बहुत हैं, लेकिन आपकी स्किल्स ही तय करती है कि इस क्षेत्र में आपके कॅरियर का ग्राफ कितना आगे बढ़ेगा। इस फील्ड में कॅरियर बनाना चाहते हैं, तो सिर्फ टेक्निकल नॉलेज का होना जरूरी नहीं, दूसरी कई खूबियां भी एक कर्मचारी में होनी जरूरी हंै। आइटी कंपनियां रिक्रूटमेंट के समय आपकी कुछ स्किल्स को जांचती हंै और कुछ स्किल्स वहां पर आगे ले जाने में मदद करती हैं, जैसे-लीडरशिप, प्रॉब्लम सॉल्विंग, टेक्निकल, प्रोजेक्ट मैनेजमेंट स्किल्स। इन स्किल्स का सीधा पॉजिटिव असर आपके कॅरियर पर पड़ता है और टीम मेम्बर्स भी प्रभावित होते हैं। अगर आप आइटी सेक्टर में कॅरियर बनाने की तैयारी कर रहे हैं, तो पहले खुद का मूल्यांकन करें कि क्या आपमें यह खूबियां हैं।

लीडरशिप
लीडरशिप के मायने सिर्फ टीम को लीड करना ही नहीं। कोरोनाकाल में रिमोर्ट वर्किंग का कल्चर है, इसलिए एक टीम लीडर में वर्चुअली लोगों को जोड़कर सामंजस्य बिठाना, डिजिटल तकनीक की मदद से बिजनेस को सफल बनाना व आगे बढ़ाना भी लीडरशिप का हिस्सा है। नई चीजों को सीखने की ललक और टीम को प्रेरित करने की क्षमता अच्छे लीडर की पहचान है।

प्रॉब्लम सॉल्विंग स्किल
कि सी भी बुरी स्थिति का आप सामना कैसे करते हैं और उस पर जीत कैसे हासिल करते हैंं, इसे ही प्रॉब्लम सॉल्विंग स्किल कहते हैं। यह ऐसी स्किल है, जो हर सेक्टर की कंपनियां अपने कर्मचारी में देखती हैं। कर्मचारी की इस खूबी से उसकी एनालिटिकल स्किल के साथ सोचने-समझने, टीम के काम लेने की खूबियों का भी पता चलता है। बुरी से बुरी स्थिति में शांत मन के साथ टीम के साथ सामंजस्य बिठाना और समस्या का समाधान करना एक अच्छे कर्मचारी की पहचान है।

प्रोजेक्ट मैनेजमेंट
आइटी सेक्टर में प्रोजेक्ट मैनेजमेंट की स्किल बेहद जरूरी है। यह कैंडिडेट को उसके प्रोजेक्ट के लक्ष्य को पाने, टीम के साथ काम करने, समय से काम पूरा करने और समस्याओं का समाधान करना सिखाने में मदद करती है। काफी हद तक यह स्किल तय करती है कि आप कितने बेहतर लीडर और एक आदर्श कर्मचारी साबित हो सकते हैं। यह स्किल आपको दूसरे कर्मचारियों से अलग बनाती है।

टेक्निकल स्किल
एक सर्वे के मुताबिक, आइटी सेक्टर में अच्छी ग्रोथ के लिए जितनी प्रोफेशनल स्किल जरूरी है, उतनी ही टेक्निकल स्किल भी। महामारी के दौर ने हर कर्मचारी की टेक्निकल स्किल्स को बढ़ाने का काम किया है। जिस तरह से तकनीक का दायरा बढ़ रहा है, उससे साफ है कि टेक्निकल स्किल्स में और इम्प्रूवमेंट की जरूरत है। आइटी सेक्टर में आने वाले कैंडिडेट को आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस, मशीन लर्निंग, बिग डेटा एनालिटिक्स व ऑटोमेशन की स्किल कॅरियर ग्राफ बढ़ाने में मदद करेंगी।

क्रिएटिविटी
किसी भी समस्या का समाधान ढूंढने का यूनीक तरीका, तकनीक की मदद से नई चीजों की खोज करना, आइटी सेक्टर में आगे ले जाने में मदद करता है। कैंडिडेट के अंदर पनपने वाली जिज्ञासा ही क्रिएटिविटी को पैदा करती है। इसलिए चीजों को समझने, नया नजरिया पेश करने के लिए हमेशा आगे आएं। कुछ नया करने की सोच और क्षमता ही क्रिएटिविटी लाएगी।

आइटी सेक्टर में आए दिन हो रहे नए बदलावों के साथ ही अपने कौशल को अपडेट करें ताकि खुद की नौकरी को पक्का किया जा सके।

Latest News