Best Courses 2022: बीए, बीटेक, बीएससी, बीकॉम जैसे ट्रेडिशनल कोर्स करने के बजाय ऐसे स्टूडेंट्स जो किसी विशिष्ट विषय को पढऩे और समझने में रुचि रखते हैं, वे वोकेशनल कोर्स कर सकते हैं। वोकेशनल कोर्स में क्लासरूम के बजाय प्रेक्टिकल नॉलेज और स्किल्स ज्यादा दी जाती है। इन कोर्सेज को करने में ट्रेडिशनल कोर्स की तुलना में समय कम लगता है। पिछले कुछ वर्षों में वोकेशनल फील्ड को चुनने का ट्रेंड बढ़ गया है। हाल ही सरकार ने भी आइटीआइ और पॉलिटेक्निक में कई खास कोर्स शुरू किए हैं। जानें, इनके बारे में –

स्किल सेंटर से जुड़ें
दिल्ली सरकार के वल्र्ड क्लास स्किल सेंटर ‘हुनरÓ से जुड़कर भी स्टूडेंट्स वोकेशनल फील्ड से जुड़ सकते हैं। इस सेंटर में चार वोकेशनल कोर्स संचालित हैं। रिटेल सर्विसेज, हॉस्पिटैलिटी, फाइनेंस एंड अकाउंट्स व इंफॉर्मेशन टेक्नोलॉजी।

कोर्स विकल्प
वोकेशनल और सर्टिफिकेट हर तरह के कोर्स इसके तहत किए जा सकते हैं। वेब डिजाइनिंग, टेलीकम्युनिकेशन, हेल्थ केयर, फोटोग्राफी, गेम डिजाइनिंग, इवेंट मैनेजमेंट, टूरिज्म, कम्प्यूटर साइंस, हाउस कीपिंग, ऑफिस मैनेजमेंट आदि कई तरह के कोर्सेज शामिल हैं।

कोर्सेज के हैं फायदे
वोकेशनल कोर्स करने में समय और फीस कम लगते हैं और आप मनचाहे क्षेत्र में नौकरी पा सकते हैं। ये कोर्सेज डिमांड के आधार पर बनाए जाते हैं और वर्तमान में इन्हें ऑनलाइन स्तर पर भी किया जा सकता है।

आइटीआइ में स्पेशलाइज्ड कोर्स
विशेषकर 10वीं पास कैंडिडेट के लिए आइटीआइ से वोकेशनल कोर्स करना अच्छा विकल्प है। यहां पेंटर, ड्राफ्ट्समैन, इंफॉर्मेशन टेक्नोलॉजी समेत कई वोकेशनल कोर्सेज में स्टूडेंट पढ़ाई कर सकते हैं। साथ ही यहां कई स्पेशलाइज्ड कोर्स भी कराए जाते हैं। खास बात यह है कि यदि आप इंजीनियरिंग से हटकर कुछ करना चाहते हैं तो नॉन इंजीरियरिंग ट्रेड में वोकेशनल कोर्स कर सकते हैं।

योग्यता का ध्यान रखें
12वीं पास से लेकर ग्रेजुएट स्टूडेंट्स वोकेशनल कोर्स कर सकते हैं। इसके अलावा ऐसे स्टूडेंट्स जो 10वीं से कम पढ़े लिखे हैं, वे भी वोकेशनल कोर्स के जरिए अपना भविष्य संवार सकते हैं। इन कोर्सेज में योग्यता के साथ ही कैंडिडेट की रुचि को भी अहमियत दी जाती है ताकि वह प्रेक्टिकली भी विषय को समझ सके।

Latest News