उच्च शिक्षा में लोन लेने का आसान तरीका


अगर आपकी आर्थिक स्थिति शिक्षा के अनुकूल नहीं बन पा रही है तो सरकार इस स्तर में सुधार करके सभी को जरुरी शिक्षा का अधिकार दे रही है। जिसमे आर्थिक तंगी के चलते कोई भी अपनी शिक्षा से वंचित रहे। पूर्व दिग्गजों का कहना होता था की उधार लेना और देना गलत है।  मगर गरीबी के स्तर और शिक्षा की चाहत के चलते दोनों ही कथन गलत है। जीवन यापन में सभी  जरूरतों को पूरा करने के लिए लोन एक अहम हिस्सा बन गया है। 

Gh

इनके लिया दिया जाता है शिक्षा लोन 
कोचिंग शुल्क 
इंस्टिट्यूट फीस 
विदेश में अपनी उच्च शिक्षा के लिए 
रहवास खर्च 

शिक्षा लोन के पात्रता और जरुरी योग्यता 
विद्यार्थी देश का नागरिक होना चाहिए 
प्रवेश परीक्षा, या अन्य चयन प्रक्रिया के आधार उसका प्रोफेशनल या तकनिकी कोर्स के लिए चयन हुआ हो। 
विदेश में शिक्षा के लिए वह के विश्वविद्यालय या संस्थान में प्रवेश सुरक्षित हो गया हो। 

शिक्षा के लिए मिलने वाले लोन की राशि 
अपने देश में शिक्षा  के लिए  10 लाख रूपए तक 
अन्य देश में शिक्षा के लिए   20 लाख रूपए तक 

ब्याज दरें बैंक अपने स्तर पर तय करते है 
11 % से लेकर 17 % तक ब्याज लगता है जो अलग – अलग बैंक का अलग – अलग है 


लोन कब और कैसे चुकाना 
विद्यार्थी जब तक अपनी शिक्षा पूरी नहीं कर लेता तब तक उसे कोई किश्त नहीं देनी होती है और उसके बाद उसे भुगतान की किश्ते शुरू हो जाती है जो अवधि के अनुसार तय होती है। 
यह लोन चुकाने का समय कोर्स पूरा होने के एक साल बाद या नौकरी लगने के 6 महीने बाद शुरू करना होता है। 
लोन को 5 से 7 साल के अंदर चुकाना जरुरी होता है इस दौरान कोई भी पेनल्टी नहीं ली जाती। 

जरुरी कागजात 
यह कार्य बैंको की जरुरत के अनुशार कागजात पर निर्भर है फिर भी अमूमन बैंको में यह जरुरी होते है 
आवेदन  फार्म 
पहचान पत्र , मूल निवास प्रमाण पत्र , आयु प्रमाण पत्र ,सत्यापित कॉपी 
आवेदक , गारंटर की फोटो 
पेरेंट्स और गारंटर की आय प्रूफ और आयकर रिटर्न 
सरकार की और से जारी रशि सीमा का प्रमाण पत्र और आदेश कॉपी 
आवेदक, गवाह , और गारंटर का पिछले महीने का बैंक अकॉउंट स्टेटमेंट रिकॉर्ड 
विदेश में पढाई के लिए जाने वाले आवेदक की वीजा और विमान यात्रा किराये का ब्यौरा या टिकट की कॉपी 

लोन न चुकाने की स्थिति में 
अगर विद्यार्थी लोन चुकाने की स्थिति में नहीं है या लोन नहीं चूका पता है तो उस स्थिति में गारंटर भी बैंक रिकॉर्ड ख़राब होगा और विद्यार्थी भविष्य में लोन नहीं ले सकता ,  डिफाल्टर होने की स्थिति में केश भी दर्ज हो सकता है 

लोन लेने से पहले सबी प्रकार की जानकारी जुटानी चाहिए की कोनसा बैंक सबसे कम ब्याज दर पर  दे रहा है।  
 

Latest News