तेजी से पढऩे के लिए मन को भटकाने के बजाय ध्यान को एकाग्र करें। हालांकि बताए जा रहे उपायों को अपनाने मेें निरंतर अभ्यास व प्रयास की जरूरत होती है।

अक्सर कुछ लोग तेजी से यानी बेहद कम समय में किताब आदि पूरी पढ़ लेते हैं। यह एक कला है, जो कई तथ्यों पर निर्भर करती है। इस कारण इसमें सहज रूप से मास्टरी हासिल नहीं की जा सकती है। नियमित प्रयास से ही ऐसा संभव है। आरामदायक जगह व पोजिशन में बैठकर व नए शब्दों को सीखते रहने का अभ्यास उपयोगी है। जानें अन्य जरूरी बातें –

श्रीप्रकाश शर्मा
प्राचार्य, जवाहर नवोदय विद्यालय, मामित, मिजोरम

पंक्तियों पर एक साथ फोकस न करें। इससे कुछ भी समझना मुश्किल होगा।

पढऩे के साथ पैराग्राफ कंटेंट को विजुअलाइज कर सकते हैं।

आंखें पंक्ति के मध्य हों
पढऩे के दौरान आंखें पंक्तियों के किसी एक किनारे (दाएं या बाएं) पर रखने की आदत स्पीड ब्रेकर की तरह काम करती हैं। कुछ भी पढऩे के दौरान आंखों को वाक्यों की पंक्ति के सेंटर में रखें। इससे एक समय में अगली लाइन के कंटेंट संग दाएं-बाएं के हिस्सों पर भी नजर बनी रहेगी।

पूरे वाक्य पर गौर करें
प ढ़ते समय अक्सर पाठक एक शब्द को ध्यान में रखकर पढ़ते हैं, जो सही नहीं है। तेजी से यदि आप पढऩा चाहते हैं तो अपना ध्यान किसी एक शब्द पर रखने के बजाय पूरे उपवाक्य या सेंटेंस पर रखें। इसके अलावा यदि आप अपना ध्यान पूरे पैराग्राफ पर रख पाएंगे तो इससे अच्छा और कुछ नहीं होगा।

मौन होकर पढ़ें
कुछ लोगों को बोल-बोलकर पढऩे की आदत होती है या पढऩे के दौरान अपने होठों को मूव करते रहते हैं। इसके अलावा शब्दों पर अंगुली रखकर पढऩे की आदत होती है। ऐसे में तेजी से पढऩे के लिए मौन होकर व खुद को एकाग्रचित्त करके पढ़ें। बोल-बोलकर न पढ़ें।

नए शब्दों को सीखें
अ क्सर कुछ पढ़ते समय हम कोई कठिन शब्द या फ्रेजल वर्ड आते ही उसके मीनिंग को जानने के लिए रुक जाते हैं। ऐसे में विभिन्न विधाओं के नए शब्दों और फ्रेजल वब्र्स को सीखते रहें। इसके साथ ही पढऩे के दौरान खुद के ध्यान को पंक्तियों और पैराग्राफ पर फोकस करना अच्छी रीडिंग हैबिट है।

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *