अगर ग्रुप में कोई आपत्तिजनक पोस्ट करता है तो आप पुलिस को सूचना जरूर दें।
whatsapp group letest news

दोस्तों और रिश्तेदारों से एक साथ जुड़ने के लिए अगर आप व्हाट्सप्प ग्रुप बना रहे हैं तो सोच समझकर एडमिन बनें।  एडमिन बनने से नुक्सान भी हो सकता है।  इसका हालिया उदहारण मध्यप्रदेश और राजस्थान में देखने को मिला है।  दूसरे लोगों द्वारा मैसेज पोस्ट करने पर व्हाट्सअप ग्रुप एडमिन को जेल जाना पड़ा है।  साइबर एक्सपर्ट की मानें तो वाहट्सएप्प ग्रुप में मैसेज पोस्ट लिए ग्रुप एडमिन भी बराबर जिम्मेदार है।  इसके लिए पुलिस पहले भी सूचना जारी कर चुकी है।  एडमिन पर आती और आईपीसी की धाराएं लगती है। दूसरी तरफ एक्सपर्ट का कहना है की कुछ तरीकों को अपनाकर ग्रुप एडमिन इन परेशानियों से बच सकते हैं। कोई भी ग्रुप बनाते समय सबसे पहले एडमिन कोई चाहिए की ग्रुप डिस्क्रिप्शन में एक मैसेज दाल दे कि कोई भी मेंबर ग्रुप में मैसेज करता है तो सम्बंधित व्यक्ति ही उसके लिए जिम्मेदार होगा न कि ग्रुप एडमिन।  जब नए लोग इससे जुड़ेंगे तो उनके लिए यह चेतावनी होगी।  साथ ही विश्वसनीय व्यक्ति को एडमिन बनायें, संदिग्ध व्यक्तियों के पोस्ट राइट ब्लॉक कर दें।ग्रुप बड़ा करने के चक्कर में हर किसी को ग्रुप एडमिन न जोड़ें और गलत,  अफवाह फैलाने वाले या छवि ख़राब करने वाले मैसेज पोस्ट होने पर इसकी सूचना खुद ही पुलिस को दें। इससे आप बच सकते हैं।

जितनी जल्दी हो पहले से बने हुए ग्रुप या नई बनाने वाले ग्रुप में डिस्क्रिप्शन जरूर डालें।  यह भी ध्यान रखें की आपत्तिजनक पोस्ट करने वाले को ग्रुप से बाहर निकाला जा सकता है।  व्हाट्सप्प पर लगातार ऐसी घटनाओं को ध्यान में रखकर ट्राई जल्द ही बड़े नियम बना सकता है।सुप्रीम कोर्ट भी व्हाट्सअप को लेकर सख्त  फैसले ले रहा है।  पुलिस के पास भी ऐसे अधिकार होंगे जिनसे ग्रुप की और व्हाट्सप्प पर प्रचारित होने वाले मैसेज की जानकारी मिल सके।  

Latest News