NEW DELHI: केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी ने  कहा, इकोनामी कार बनाने वाले वाहन निर्माता जब एक्सपोर्ट करने के लिए कार बनाते हैं तो उसमें 6 एयरबैग प्रदान करते हैं, जबकि देश में इस्तेमाल के लिए बनाई जाने वाली कारो में यह केवल चार एयरबैग देते है। इस पर गडकरी ने  वाहन निर्माताओं पर बड़ा सवाल उठाते हुए कहा कि क्या गरीबों के जीवन का कोई मूल्य नहीं है? एक टीवी चैनल से बात करते हुए उन्होंने कहा कि कंपनियां यह तर्क देती हैं, कि ज्यादा एयरबैग लगाने से गाड़ियों की कीमत और बढ़ जाएगी। उन्होंने कहा कि गाड़ियों में एक एयरबैग लगाने की कीमत को 900 तक लाया जा सकता है।

गाड़ी में पीछे बैठे लोगों की सुरक्षा भी जरुरी

केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी लंबे समय से कोरों में छह एयरबैग की वकालत करते आ रहे हैं। उन्होंने कहा कि कार में 6 एयरबैग होना अनिवार्य किया जाएगा और यह प्रक्रिया अभी चल रही है। वहीं संसद में भी उन्होंने कहा था की एक एयरबैग की लागत मात्र 900 रुपए है। गाड़ी में पीछे बैठने वाले लोगो की सुरक्षा भी जरुरी है।

हाल ही में टाटा संस के पूर्व चेयरमैन साइरस मिस्त्री की सड़क हादसे में मौत होने के बाद केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी ने एक बड़ा बयान दिया है। गडकरी ने कहा कि अहमदाबाद-मुंबई राजमार्ग पर ट्रैफिक फ्लो बेहद ज्यादा होता है, जिस वजह से यह बहुत खतरनाक भी है। उन्होंने कहा कि जिस हाईवे पर साइरस मिस्त्री का एक्सीडेंट हुआ वह उन्होंने ही बनवाया था। वे उस समय महाराष्ट्र सरकार में लोक निर्माण विभाग के मंत्री थे।

भारत दुनिया का दूसरा सबसे बड़ा सड़क नेटवर्क वाला देश

गडकरी ने सड़क हादसों के बारे में कहा कि भारत अब दुनिया का दूसरा सबसे बड़ा सड़क नेटवर्क वाला देश बन गया है, लेकिन अभी भी बहुत कुछ किया जाना बाकी है। हर साल भारत में 5 लाख से भी ज्यादा हादसे होते हैं और इनमें डेढ़ लाख से ज्यादा लोगों को अपनी जान गंवानी पड़ती है। इनमें 65 प्रतिशत मरने वाले लोगों की उम्र 18 से 34 वर्ष के बीच होती है। उन्होंने आगे कहा, हम चाहते हैं की 2024 के आखिरी तक देश में सड़क दुर्घटनाएं आधी हो जाएं, इस दिशा में काम भी शुरू कर दिया गया है।

Latest News