गौर करें तो युवाओं की तुलना में बच्चों के भी स्मार्टफोन प्रयोग करने के तरीकों में बढ़ोतरी हुई है। वीडियोज के अलावा वे गेम्स आदि खेलने के लिए फोन को प्रयोग में लेते हैं।

अभिभावकों को बच्चों के स्मार्टफोन प्रयोग से जो सबसे ज्यादा डर जेहन में होता है, वह है उनका बिगडऩा, किसी गलत चीज को एक्सेस करना आदि। ऐसे में आप एंड्रॉइड स्मार्टफोन पर पेरेंटल कंट्रोल के तहत बच्चों की सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए सेटिंग्स में कुछ अहम बदलावों को कर सकते हैं।

ऐप्लीकेशंस को इंस्टॉल होने से रोकें
गूगल प्ले लगभग सभी स्मार्टफोन में होता है। अक्सर बच्चे स्मार्टफोन के एक्सेस के दौरान गूगल प्ले को ओपन कर वहां से कुछ न कुछ डाउनलोड कर लेते हैं। कई बार बच्चों के हाथ से कुछ गलत कंटेंट वाली ऐप्लीकेशन भी इंस्टॉल हो जाती है। ऐसे में इस पर पेरेंटल कंट्रोल लगा सकते हैं। गूगल प्ले स्टोर पर जाकर यहां बाईं ओर मौजूद तीन लाइनों पर टैप करें। यहां सेटिंग में जाकर पेरेंटल कंट्रोल सेलेक्ट करें। इसे ऑन करते ही यह पिन मांगेगा। यहां आप ऐसा पिन डालें, जिसका पता बच्चों को न चले। अगली स्क्रीन में आप रिस्ट्रिक्शन सेट कर सकते हैं।

न करें ऐप्लीकेशंस का प्रयोग
ब च्चों को यदि स्मार्टफोन में मौजूद विभिन्न ऐप्लीकेशन के प्रयोग से रोकना चाहते हैं तो खास तरीके को अपनाएं। सेटिंग्स में जाकर यूजर ऑप्शन पर क्लिक करें। यहां मल्टीपल यूजर ऑप्शन दिखेगा, जिसमें गेस्ट यूजर के लिए कंट्रोल सेट कर सकते हैं। यदि आप नया यूजर सेट करते हैं तो पिन मांगा जाएगा। यहां पिन को भरकर बच्चों को स्पेसिफिक यूजर बना दीजिए। यहां आप जान पाएंगे कि बच्चे फोन में कौनसे ऐप्स देख सकते हैं।

Latest News