Taarak Mehta Ka Ooltah Chashmah: तारक मेहता का उल्टा चश्मा कि बबिता जी यानि कि मुनमुन दत्ता मुश्किलें बढ़ गयी हैं। कोर्ट ने उनकी अग्रिम जमानत की याचिका को ख़ारिज कर दिया है। हिसार की SC/ST एक्ट के तहत दायर की गई यह याचिका खारिज कर दी गई है। मामले पर जानकारी देते हुए एडवोकेट रजत कल्सन ने बताया कि जज अजय तेवतिया ने मामले पर संज्ञान लेते हुए जमानत देने से इंकार कर दिया है। अब उनकी गिरफ्तारी की भी संभावना धीरे-धीरे बढ़ती जा रही है।

वकील के मुताबिक, मुनमुन दत्ता ने मई 2021 में अनुसूचित जाति पर अपमानजनक टिप्पणी की थी। दलित अधिकार कार्यकर्ता एवं वकील रजत कल्सन ने उन पर अपने यूट्यूब चैनल के जरिए अपमानित किए जाने पर हिसार जिला के हांसी एरिया में 13 मई को SC/ST एक्ट के तहत मुकदमा दर्ज करवाया था।

मुनमुन दत्ता के विरुद्ध हरियाणा, उत्तर प्रदेश, महाराष्ट्र, दिल्ली, राजस्थान व मध्यप्रदेश में कई थानों में FIR दर्ज की गई है। इन सभी जगहों के मुकदमों को लेकर मुनमुन दत्ता ने सुप्रीम कोर्ट से एक ही जगह हरियाणा के हांसी मुकदमा चलाने की थी। मुनमुन दत्ता ने सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर करके कहा था कि उन पर दर्ज मुकदमों को रद्द किया जाए, जिसे सुप्रीम कोर्ट ने ठुकरा दिया।

मुनमुन दत्ता ने हाई कोर्ट से गिरफ्तारी पर रोक की मांग की, लेकिन यहां भी वकील ने हाईकोर्ट से याचिका वापस ले ली। अब हिसार की SC/ST एक्ट अदालत में याचिका लगाई थी, जिस पर 25 जनवरी को बहस हुई और मुनमुन दत्ता उर्फ बबिता जी की याचिका कोर्ट ने खारिज कर दी।

गौरतलब है कि इससे पहले भी दलित अधिकार कार्यकर्ता रजत कल्सन ने दिग्गज क्रिकेटर युवराज सिंह और फिल्म अभिनेत्री युविका चौधरी के खिलाफ भी मुकदमा दर्ज कराया था।

Latest News