योग एक हिन्दू फिलॉसफी है, जो मन और शरीर के नियंत्रण से साधक को आंतरिक शांति प्रदान करता है। इस क्षेत्र में खुद को कुशल बनाने के लिए व्यक्ति में कुछ खास स्किल्स होनी चाहिए। जैसे- सतत सीखने की जिज्ञासा एवं अदम्य साहस, उच्च स्तर का फिजिकल फिटनेस व मेंटल बैलेंस, कठिन मेहनत के लिए तत्परता, अगाध आत्मविश्वास और धैर्य, दोषरहित संवाद की कला, प्रेरित करने की क्षमता, सशक्त लीडरशिप, सकारात्मक सोच और कभी हार न मानने की मानसिक दृढ़ता आदि। खास बात यह है कि दुनियाभर में कई संस्थान ऐसे हैं, जहां से इस कोर्स को किया जा सकता है। जैसे गवर्नमेंट नेचर केयर एंड योग कॉलेज (मैसूर), बिहार स्कूल ऑफ योग (मुंगेर), गवर्नमेंट नेचुरोपैथी एंड योग मेडिकल कॉलेज एंड हॉस्पिटल (चेन्नई), राष्ट्रीय संस्कृत विद्यापीठ (आंध्रप्रदेश), महर्षि महेश योगी वैदिक विश्वविद्यालय (मध्यप्रदेश), मोहनलाल सुखाडिय़ा यूनिवर्सिटी (उदयपुर), जादवपुर यूनिवर्सिटी (कोलकाता), इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ योगिक साइंस एंड रिसर्च (भुवनेश्वर) आदि प्रमुख हैं।

रोजगार के प्रमुख अवसर
शिक्षा : केन्द्र और राज्य सरकारों के स्कूल, कॉलेज व यूनिवर्सिटी में स्टूडेंट्स और फैकल्टी मेम्बेर्स को चिंता, अवसाद और वर्क प्रेशर से बचाने के लिए योग के इंस्ट्रक्टर्स, कोच, असिस्टेंट प्रोफेसर व प्रोफेसर की रेग्युलर लेवल पर नियुक्ति होती है, जो उन्हें योगासन व योग की अन्य विधियों को सिखाते हैं। योग इंस्ट्रक्टर्स विभिन्न कक्षाओं के लिए प्रेस्कराइब्ड पाठ्यक्रमों को भी पढ़ाते हैं।

होटल, हैल्थ सेक्टर, पिकनिक रिसॉट्र्स, जिम्नेजियम और लाफिंग क्लब्स : यहां योग एक्सपट्र्स और प्रोफेशनल्स रेगुलर और पार्ट-टाइम पर अच्छी सैलरी के साथ अपॉइंट किये जाते हैं, जो लोगों को शारीरिक रूप से स्वस्थ और मानसिक रूप से फिट रहने के लिए ट्रेन करते हैं। प्रोफेशनल हॉस्पिटल, स्पा सैलून व हैल्थ में काम करते हैं।
विजुअल व प्रिंट मीडिया : टेलीविजन चैनल्स पर दर्शकों को कई रोगों से दूर रहने के लिए योग के अहम टिप्स व अनिवार्य आसन सिखाए जाते हैं। ये टेलीविजन चैनल्स योग एक्सपट्र्स और प्रोफेशनल्स को रेगुलर बेसिस पर अपॉइंट करते हैं। अक्सर सभी भाषाओं में छपने वाले न्यूजपेपर्स, मैगजीन्स आदि भी प्रसिद्ध योग एक्सपट्र्स को योग व स्वास्थ्य पर रेगुलर कॉलम लिखने के लिए अपॉइंट करते हैं।

अनिवार्य योग्यता व कोर्स
योग में कॅरियर बनाने की शुरुआत कई प्रोफेशनल कोर्स में डिप्लोमा और मास्टर की डिग्री के साथ की जा सकती है। बैचलर कोर्स में प्रवेश के लिए न्यूनतम योग्यता किसी भी स्ट्रीम में बारहवीं पास और पोस्ट ग्रेजुएशन में प्रवेश के लिए ग्रेजुशन किया हो। कुछ अहम कोर्स हैं-
सर्टिफिकेट कोर्स इन योग
बैचलर इन आट्र्स (योग फिलोसॉफी)
अंडरग्रेजुएट डिप्लोमा इन योग एजुकेशन
पोस्ट ग्रेजुएट डिप्लोमा इन योग थैरेपी
मास्टर ऑफ आट्र्स इन योग
एडवांस योग टीचर्स ट्रेनिंग कोर्स इन योग

Latest News