घरों में रख सकेंगे कितना भी सोना, कोई भी कार्रवाई नहीं करेगी मोदी सरकार : यहाँ पढ़ें

indian gold limit

 नोटबंदी के बाद जनता और विशेषज्ञों द्वारा यह कयास लगाए जा रहे थे की 500 और 1000 रुपए पुराने नॉट चलन से बन्द के बाद दूसरा नंबर सोने का है।  लेकिन  इसके विपरीत अब खबर यह आई है  कि मोदी सरकार घरों में रखे आपके सोने पर कोई कार्रवाई नहीं करेगी।
सरकारी सूत्रों के हवाले से यह  खबर आई है कि सरकार ऐसा कोई भी प्रस्ताव नहीं ला रही है। सोने को लेकर चर्चा इसलिए भी गर्म थी क्योंकि 500 और 1000 के नोट चलन से बाहर किये जाने के बाद  सरकार तक ये खबर पहुंची कि लोग कालेधन से सोना बहुत  खरीद रहे हैं। इसी के चलते कयास लगाए गए  थे कि सरकार सोने की खरीदारी और घरों में रखे सोना पर भी  कड़े नियम जारी कर सकती है।

 यह भी पढ़ें : विवाहेत्तर पति का अवैध संबंध नहीं है पत्नी के प्रति क्रूरता – सुप्रीम को

वित्त मंत्रालय के सूत्रों के हवाले से जानकारी मिली है कि 500-1000 रुपए के नोट बंद करने के फैसले के बाद घरों में रखे सोने पर किसी भी प्रकार की कोई कार्रवाई नहीं होने जा रही है। सर्राफा बाजारों के कारोबारियों ने पिछले दो हफ्तों में रिकॉर्ड तोड़  सोने की खरीद की है। सर्राफा कारोबारियों या ज्वैलर्स को डर है कि कहीं सरकार सोने के आयात पर भी किसी प्रकार का कोई बैन न लगा दें।

सोने को लेकर बाजार में उड़ी ऐसी अनेक  अफवाह
मीडिया रिपोर्र्ट्स के अनुसार  मुद्रा  पर लगाम लगाने के बाद सरकार का अगला निशाना सोना  होगा। सूत्रों के हवाले से यह  दावा किया जा रहा था कि सरकार अब जल्द घर में सोना रखने की लिमिट तय करेगी । नोटबंदी के बाद बड़े पैमाने पर सोने की खरीद-फरोख्त पुराने नोटों से करने की खबरों के बाद कई जगहों पर ज्वैलर्स के यहां छापे भी पड़े थे। कालेधन से गोल्ड खरीदने की खबरों के बीच ये अफवाहें तैर रही थीं कि सरकार घरों में अब सोना रखने की लिमिट भी तय कर सकती है जिससे लोग कालेधन को सोने में निवेश नहीं करें ।

 यह भी देखें  : सो रही प्रेमिका पर प्रेमी ने छोड़े 2 जिन्दा सांप! फिर क्या हुआ : देखें विडियो

हालांकि ऐसा आकलन है कि सोने की सालाना मांग का लगभग एक-तिहाई भाग काला धन खपाने में ही  होता है। नोटबंदी के बाद काले धन का इस्तेमाल बड़े पैमाने पर सोने जैसे धातु की खरीदारी के लिए ही किया जा रहा है इसके चलते ये खबरें थी कि सरकार काले धन पर पूरी तरह से  रोकथाम लगाने के लिए सोने रखने की लिमिट भी तय करेगी। ध्यान रहे कि विश्व में भारत सोने का दूसरा सबसे बड़ा खरीदार देश  है। भारत के इंपोर्ट का भी बहुत बड़ा हिस्सा सोने में ही जाता है।
जब केंद्र सरकार ने कहा कि कालेधन के खिलाफ तो सरकार की कार्रवाई जारी रहेगी और इस कड़ी में कुछ और कड़े सख्त कदम उठाए जाएंगे तो ये खबर बहुत तेजी से फैली कि लोगों के सोना रखने पर भी सरकार की पूरी नजर रहेगी और सोने की खरीदारी के लिए भी कुछ कड़े  नए नियम आ सकते हैं। सोशल मीडिया जैसे वॉट्सएप्प, फेसबुक और ट्विटर पर भी  कई तरह के मैसेज वायरल हो रहे थे।

यह भी देखें  : इस हरियाणवी लड़की का डांस देख भूल जाएंगे सपना का डांस, देखें वीडियो

 नोटबंदी का  सोने की खरीदारी पर ऐसे पड़ा असर
500-1000 रुपए के पुराने नोट चलन से बहार किये जाने के बाद  यानी 8 नवंबर को देश भर में देर रात सोने की जमकर  खरीदारी हुई जिसमें गुजरात और मुंबई समेत कई इलाकों से यह  खबर आई कि लोगों ने 10 ग्राम सोना खरीदने के लिए 50,000 रुपए से ज्यादा की भी कीमत चुकाई थी। कुछ बाजारों में 60,000 रुपए तक प्रति 10 ग्राम तक सोने के दाम भी पहुंचे थे। ऐसी कई खबरों के आने के बाद आईटी डिपार्टमेंट की कई टीमों ने दिल्ली-मुंबई समेत कई अन्य शहरों में ज्वैलर्स के यहां छापेमारी भी की थी। माना जा रहा है कि 500-1000 रुपए के नोट बंद होने के बाद लोगों ने बड़े पैमाने पर  अपना कालाधन सोने की  खरीदने में ही खपाया है और इसी पर रोक लगाने के इरादे से  सरकार सोना रखने की लिमिट भी तय कर सकती है।

Latest News