मोबाइल  एप से  500 और 2000 के  नोट की असली नकली की पहचान में पड़ जायेंगे लेने के देने, जानिए कैसे

नोटबंदी के बाद जहाँ भारत में लोग नए 2000 और  500 के नोट को चूर्ण का नोट बताया जा रहा है। भारत में 500 और 1000 के पुराने नोट चलन से बाहर किये जाने के  बाद 500 और 2000 रूपए के नए नोट  आ चुके हैं, लेकन यहाँ कुछ लोग अभी इन्हें देख भी नहीं पाए हैं। और इसी बात का फायदा उठाकर  कुछ अपने जानकार शातिर अपराधी लोगों ने आम जनता  साथ ठगी करना शुरू कर दिया है। ऐसे लोग ही नोट स्कैन और प्रिंट करके तैयार कर नकली नोटों को बाजार में चलाने की कोशिश कर रहे हैं। इसके  साथ ही कई और भी अफवाहें अभी  फैल रही हैं। ऐसी ही एक अफवाह एक प्रैंक मोबाइल  एप Modi Keynote के बारे में भी  हैं। अफवाहों में यह  कहा जा रहा है कि  मोबाइल एप के जरिए यह भी जांच की जा सकती है कि आपके पास पड़ा  500 और 2000 का  नोट असली हैं या नकली।

indian economic news

प्रैंक के ही लिए है ये मोबाइल  एप
इस मोबाइल एप  के जरिये  सिर्फ प्रैंक ही किया जा सकता है। लेकिन देश में बहुत से लोग इस एप को  लोगों में यह कहकर प्रचारित करने में लगे  हैं कि इससे  आप असली और नकली नोटों में पहचान कर सकते  है। सोशल मीडिया पर  भी यह अफवाह  ही  वायरल हो चुकी है कि 500 और 2000  के नए नोट असली हैं या नकली, इसका  पता Modi Keynote एप के जरिए भी लगाया जा सकता है। अफवाहों में यह भी कहा जा रहा है कि अगर नोट पर विडियो प्ले हो तो ही समझ जाये की  नोट असली है। जबकि  यह हकीकत  है कि न सिर्फ यह एप बल्कि ऐसे सभी  तरह के एप प्रैंक के लिए ही हैं। ये एप्स मुद्रा  की वैधता की जांच भी नहीं कर सकते।

यह भी  देखें : मोदी ने केजरीवाल को दिखाई उसकी औकात! देखें विडियो

ऐसे करता है Modi Keynote एप काम
Modi Keynote एप आपके मोबाइल फोन के कैमरे को इस्तेमाल करते हुए आपके द्वारा रखे गए नोटों को स्कैन करता है। अगर सामने 500 और 2000 का नोट होता है तो नरेंद्र मोदी के भाषण का वह विडियो प्ले होने लगता है, जो ८ नवम्बर को  उन्होंने पुराने नोटों को बैन करने का ऐलान किया । आपको यह भी बता दें कि प्रैंक एप को इस तरह से विकसित किया गया है कि स्कैन होने पर नए नोट का रंग और डिजाइन नजर आते ही  विडियो प्ले होने लगेगा।  असली और नकली नोट की पहचान  में  सक्षम नहीं है .

गूगल ने हटा दिया था प्ले स्टोर से
Modi Keynote एप को गूगल प्ले स्टोर से वायरल होने के बाद  हटा दिया गया , लेकिन अब Modi Keynote (Prank App) के नाम से यह  उपलब्ध है। इस एप को विकसित करने वाले Barra Skull Studios ने लिस्टिंग में कई जगह पर भी यह  बताया है कि यह फेक एप है और इसका यूज केवल प्रैंक के लिए ही किया जाए । उसने लोगों से यह गुजारिश की है इस एप को  मुद्रा चेक करने के लिए इस्तेमाल न करें। इसके डिस्क्लेमर में भी साफ़  कहा गया है कि यह सिर्फ आपके मनोरंजन के लिए है।

यह भी  देखें : इस हरियाणवी लड़की का डांस देख भूल जाएंगे सपना का डांस, देखें वीडियो 

रहें सावधान इससे
इसके  अलावा भी प्ले स्टोर पर ऐसे  अन्य कई सारे एप्स मौजूद हैं, जो मुद्रा  को चेक करने का दावा करते हैं, लेकिन ऐसा  बिलकुल भी वास्तव में नहीं हो सकता है। इसलिए आप सावधान रहें कि यदि आपको असली या  नकली नोट में अंतर  पता नहीं चले तो किसी भी  जानकार व्यक्ति की मदद लें। एक बार असली नोट के सभी  फीचर्स देखकर उन्हें अच्छे से याद कर लें। ऐसे मोबाइल एप्स पर  कभी भी  बिल्कुल भी भरोसा न करें जो करंसी को चेक करने का बड़ा दावा करते है।

Latest News