Winter Olympic in china: चीन में बीजिंग विंटर ओलंपिक का आगाज होने में कुछ ही दिन शेष है। दो हफ्ते बाद शुरू होने वाले ओलंपिक को लेकर अभी से तैयारियां शुरू कर दी गई है। चीन ने ओमिक्रॉन के मामलों में सख्ती बरतते हुए सटीक जांच को वरीयता दे दी है। यहां कोरोना टेस्टिंग में गुदा से नमूने लिए जाने वाले विवादास्पद नियम को लागू करने की मंजूरी मिल गई है। चीनी समाचार पत्र ‘द बीजिंग न्यूज’ के मुताबिक, हाल ही में बीजिंग के अंदर एक अपार्टमेंट में 27 लोगों के नमूने गूदा से ही लिए गए थे। इनमें एक 26 वर्षीय महिला भी थी।

चीन में कैसे होती है कोरोना टेस्टिंग
चीन में गूदा के जरिए टेस्टिंग के तहत दो इंच अंदर तक टेस्टिंग किट को डाला जाता। इसके बाद इसके डॉक्टर द्वारा अच्छे से कई बार घुमाया भी जाता है। चीनी डॉक्टरों के मुताबिक यह तरीका कोरोना जांच के लिए बहुत सटीक है।

हेल्थ एक्सपर्ट्स के मुताबिक गले या नाक में 3 से 5 दिन बाद कोरोना के वायरस नहीं मिलते, लेकिन शरीर में मौजूद वायरस को मलद्वार के जरिए पहचाना जा सकता है। गूदा से कोरोना वायरस की टेस्टिंग सबसे ज्यादा सटीक होती है। यह तरीका वैसे तो संवेदनशील है, लेकिन इंसान के कोरोना संक्रमित होने या नहीं होने की सटीक पुष्टि होती है।

चीन में विंटर ओलंपिक की ये है स्थिति
ओलंपिक 4 से 20 फरवरी 2022 तक चलेगा। चुनिंदा दर्शकों को ही प्रवेश की अनुमति होगी। टिकटों की बिक्री भी आम दर्शकों के लिए रद्द कर दी गई है। ओलंपिक मशाल रिले भी जनता से दूर बिना संपर्क के निकलेगी।

जीरो कोरोना पॉलिसी
चीन में कोरोना के बढ़ते मामलों को देखते हुए ‘जीरो कोरोना पॉलिसी’ लागू की गई है। किसी भी शहर में एक मरीज मिलने पर भी सख्त लॉकडाउन लगाने का प्रावधान। लॉकडाउन के दौरान घरों में ही कैद रहेंगे शहरवासी। ओलंपिक के दौरान चीन की प्रतिष्ठा भी दांव पर लगी है। इसके लिए उसने खेल आयोजन से पहले देश भर में कोरोना के टेस्ट में यह नियम लागू किया है।

Latest News