health tips
health tips

Kids Care: बदलते मौसम के कारण बच्चों की परेशानियां बढ़ गई हैं। उनमें बुखार, निमोनिया, दस्त आदि की आशंका भी बढ़ गई है। अब सर्दी के जाने और गर्मी के आगमन हो चुका है, इससे मच्छरों की संख्या भी बढ़ रही है। जानते हैं कुछ प्रभावी तरीके जिससे बच्चों को बुखार या संक्रमण जैसी किसी भी आशंका से बचा सकते हैं।

इन बीमारियों की आशंका

बदलते मौसम में बच्चों में मच्छरजनित बीमारियों की आशंका सबसे अधिक होती है। मलेरिया व डेंगू जैसी बीमारियों के साथ ही पानी से सम्बंधित रोग जैसे टाइफाइड, डायरिया और पीलिया भी इस मौसम में बच्चों को अधिक परेशान करते हैं। पानी की कमी से बच्चों में उल्टी-दस्त जैसी परेशानियां बढ़ जाती हैं।

ऐसा रखें खानपान

दाल, दलिया, खिचड़ी, रोटी-सब्जी, दूध, फल, सूजी का हलवा, खीर जैसी चीजें खाने में दें। एक साल से बड़े बच्चों की डाइट वयस्क से आधी यानी लगभग 1100 कैलोरी होती है। थोड़ी-थोड़ी देर में खिलाएं।

टीके की अनदेखी न करें

टीके बच्चों का हर तरह के संक्रमण से बचाव करते हैं। इनसे उनकी इम्युनिटी बढ़ती है। यह बदलते मौसम में भी सुरक्षा देते हैं। इसलिए समय पर टीके लगवाते रहें। अगर कोई समस्या हो तो खुद दवा न दें। लक्षणों की भी अनदेखी न करें।

कुपोषण व कमजोरी जैसी समस्याएं बच्चों में अधिक होती हैं। संक्रमण, निमोनिया, सर्दी-खांसी, सांस रोग, चिकनपॉक्स, गलसूजा, काली खांसी जैसे रोग भी इस मौसम में होते हैं। अत: उनका खानपान बेहतर रखें, देखरेख करें और रोगों से बचाएं।

ये बातें रखें ध्यान

बच्चों को थोड़ा-थोड़ा कर कई बार खिलाएं। फाइबर डाइट देंं।
नारियल का पानी और ताजा फल भी डाइट में शामिल करें।
हल्का भोजन दें।
तेज धूप में बाहर न निकलने दें।
साफ व ताजा पानी पिलाएं।
बाजार की चीजें न खिलाएं।
बोतल में दूध न पिलाएं।
एकदम से सर्दी के कपड़े न छोड़ें।
मास्क का प्रयोग जरूर करें।
बच्चों को हल्के व ढीले कपड़े ही पहनने को दें।
तेज मसालेदार या तली-भुनी चीजें ज्यादा न दें।

Latest News