Technology tips for website profits: दूसरे किसी भी बिजनेस की तरह वेबसाइट्स को भी डिजिटल मार्केट में जमे रहने के लिए प्रॉफिट कमाना होता है। हालांकि, एक अच्छा डिजाइन चुन लेना और अच्छे ऑफर देने से भी कई बार आपको यह गारंटी नहीं मिल पाती कि आपकी वेबसाइट पर आ रहे विजिटर्स आपके बायर्स बनेंगे या नहीं। हो सकता है कि आप अपनी बेहतरीन मार्केटिंग और विज्ञापन तरीकों के जरिए अपनी वेबसाइट के लिए अच्छा ट्रैफिक ले आएं लेकिन अगर आपके ये विजिटर्स आपसे कुछ खरीद नहीं रहे हैं तो आपको फायदा नहीं होता। इस तरह से आप डिजिटल मार्केट में ज्यादा समय तक नहीं टिक पाते और वेबसाइट बंद करनी पड़ती है। सवाल यह उठता है कि आप अपनी वेबसाइट का प्रॉफिट कैसे बढ़ा सकते हैं और कैसे इन विजिटर्स को कस्टमर बना सकते हैं। जानते हैं, कुछ तरीके जिनसे आप अपनी वेबसाइट की प्रॉफिटेबिलिटी बढ़ा सकते हैं –

अगर आपके विजिटर्स आपसे कुछ खरीद नहीं रहे हैं, तो आपकी वेबसाइट को प्रॉफिट नहीं होता और आप लंबे समय तक डिजिटल मार्केट में टिक नहीं पाते।

अधिकतर वेबसाइट्स को विजिटर्स तो कई मिल जाते हैं लेकिन प्रॉफिट कमाने के लिए इन विजिटर्स को कस्टमर बनाना जरूरी होता है।

ऑफर करें रिव्यू
अधिकतर कंज्यूमर्स ऑनलाइन रिव्यूज पर भरोसा करते हैं। जब आपके विजिटर्स आपके कस्टमर्स की समस्याओं से खुद को जुड़ा पाते हैं, तो ज्यादा चांस होते हैं कि वे भी आपके प्रोडक्ट को अपनी समस्याओं का समाधान करने के लिए इस्तेमाल करेंगे और आपके कस्टमर बन जाएंगे। इसलिए अपनी वेबसाइट पर अपने प्रोडक्ट के लिए रिव्यू जरूर ऑफर करें।

गारंटी जरूर दें
जब आप अपने प्रोडक्ट पर गारंटी ऑफर करते हैं तो आपके विजिटर्स के कस्टमर में बदलने के ज्यादा अवसर होते हैं। हो सकता है कि कोई विजिटर आपका प्रोडक्ट सिर्फ गारंटी नहीं मिलने की वजह से न खरीद रहा हो। आप अपने विजिटर्स को अपने प्रोडक्ट का रिस्क फ्री ट्रायल करने का मौका भी दे सकते हैं जिससे उनका विश्वास बढ़े और वे प्रोडक्ट खरीदें।

संपर्क का विकल्प दें
अपने विजिटर्स को वेबसाइट पर कम्युनिकेशन का विकल्प दें। इसके जरिए वह आपसे या आपकी टीम से संपर्क कर सकते हैं और प्रोडक्ट या सर्विसेज के बारे में कन्फ्यूजन दूर कर सकते हैं। इसके लिए आप वेबसाइट पर फोन नंबर, ईमेल आईडी आदि दे सकते हैं। इस तरीके से उनका आपके और आपके प्रोडक्ट की ओर विश्वास बढ़ेगा।

कस्टमर्स के करीब जाएं

प्रॉ फिट बढ़ाने के लिए जरूरी है कि आप अधिक टारगेटेड मेसेजिंग के साथ अपने कस्टमर्स के करीब जाएं। इसके लिए आपको दो चीजें करने की जरूरत होती है। पहली यह कि आप सुनिश्चित करें कि आप एक विशेष ऑडियंस को ही टारगेट कर रहे हैं और दूसरी यह कि आप अपनी बात इसी विशेष ऑडियंस तक पहुंचा रहे हैं।

प्रोडक्ट का विजुअल प्रदर्शन

आ पको यह भी सुनिश्चित करना है कि आपके कस्टमर्स वाकई यह देख पाएं कि आपका प्रोडक्ट क्या है और वह कैसे काम करता है। अगर आपका प्रोडक्ट फिजिकल है तो आप एक शॉर्ट विडियो बना सकते हैं जिसमें कोई व्यक्ति आपके प्रोडक्ट को इस्तेमाल करता हुआ नजर आए। अगर आप कोई सॉफ्टवेयर बेचते हैं, तो आप अपने प्लेटफॉर्म का डेमो ऑफर कर सकते हैं। जब आप अपने विजिटर्स की नजर अपने प्रोडक्ट की ओर लाएंगे और उन्हें उसके फायदे बताएंगे तो वह उसकी ओर आकर्षित होंगे। याद रखें कि जब कस्टमर्स किसी चीज को देखकर उसके बारे में जानते हैं, तो उनके उसे खरीदने के मौके बढ़ जाते हैं।

प्रोडक्ट के बारे में बताएं

प्रोडक्ट की मार्केटिंग करते वक्त अधिकतर विक्रेता प्रोडक्ट के बारे में तथ्यों को हाइप करते हैं ताकि प्रोडक्ट की बिक्री बढ़े लेकिन यह सही नहीं है। अगर आप लोगों को बताएंगे कि आपके प्रोडक्ट के जरिए कैसे उनकी जिंदगी बेहतर होगी, तो यह ज्यादा विश्वसनीय लगेगा। उदाहरण के तौर पर अगर आप किसी रेफ्रिजेरेटर के बारे में यह बताने के बजाय कि यह तेज कूलिंग करता है, यह बताएंगे कि यह खाने को जल्दी ठंडा करता है, जिससे बैक्टिरिया ग्रोथ कम होती है, तो लोग ज्यादा प्रभावित होंगे। अगर आप प्रोडक्ट का विवरण टारगेट कस्टमर्स की जरूरतों के हिसाब से देंगे तो फायदे में रहेंगे।

Latest News