motivational story
motivational story

Motivation: इतिहास जब पैन खोले जाते हैं, एक से बढ़कर एक हैरानी भरे राज निकलते हैं। आज हम बाप-बेटी एक पवित्र मगर सोचने पर मजबूर कर देने वाले रिश्ते की सच्चाई बता रहे हैं। पुरातन रोम में राजा ने एक बुजुर्ग व्यक्ति साइमन को कड़ी सजा सुनाते हुए जेल में डाल दिया। सजा के दौरान उसे कहा गया कि जब तक न मर जाए, तब तक भूखे और प्यासे ही रहना है। राजा की इस सजा के बाद उसे अकेले अलग से जेल में बंद कर दिया गया। कड़े पहरे के बीच जेल में डाले जाने के बाद से ही उसकी बेटी बहुत चिंतित थी। उसने राजा से गुहार लगाई कि मुझे मेरे पिता से रोज एक बार मिलने की अनुमति दी जाए। राजा ने इस बात के लिए अनुमति दे दी। और बेटी अपने पिता से मिलने के लिए जेल आ सकती थी।

इस बुजुर्ग साइमन की एक बेटी का नाम पेरू था, जो बहुत ही ज्यादा दिमागदार थी। वह अपने पिता से मिलने रोज़ मिलने जेल जाने लगी। सैनिक उसकी कड़ी तलाशी लेने के बाद पिता से मिलने देते। कई हफ़्तों बाद जेलर के मन में एक आशंका पैदा हुई कि बुजुर्ग अब तक तो मर गया होगा। लेकिन उसने जैसे ही जेल के अंदर प्रवेश किया थो बुजुर्ग तीन हफ़्तों के बाद भी पहले जैसी ही स्थिति में था। उसके मन में शक पैदा होने लगा कि बेटी छुपाकर इसके लिए खाना लाती है। शक को दूर करने के लिए जेलर ने उसी कोठरी के कोने में छुपकर और पिता पुत्री को देखने का प्लान बना लिया।

जेलर ने जब दृश्य देखा तो लगा कि लड़की कपड़ो में खाने का एक दाना भी छुपाकर नहीं लाती। लेकिन पिता को बहुत ही शातिर अंदाज में स्तनपान करवाती है। बेबस बुजुर्ग बाप चुपचाप गोद में लेटकर दूध पीते रहता था। जेलर तो क्या, इस बात का कोई अंदाजा लगा भी सकता। पेरू के जेल से बाहर निकलने के साथ ही जेलर ने पकड़ लिया और बाप के साथ ही जेल में बन्द कर दिया।

यह बात एकदम आग की तरह पुरे राज्य में फ़ैल गई। कई लोग रिश्ते को लेकर गलत आवाज उठा रहे थे। लेकिन कुछ लोग ऐसे भी थे जो बाप और बेटी का लगाव देखकर हैरान थे। पॉजिटिव सोच वाले लोगों की संख्या धीरे धीरे बढ़ने लगी। यह जब राजा को समझ आया तो उसने पेरू को भी रिहा करने का फैसला लिया और बुजुर्ग को भी सजा से मुक्त कर दिया।

Latest News