चीन में तीन साल तक भारत के राजदूत रह चुके विक्रम मिसरी को डिप्टी एनएसए बनाया गया है। मिसरी अब पंकज सरण की जगह पदभार ग्रहण करेंगे। विक्रम मिसरी को देश का उप राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार बनाया जाना चीन को शायद रास नहीं आएगा। क्योंकि मिसरी चीन के बारे में सब कुछ जानकारी रखते हैं। भारतीय विदेश सेवा की 1989 बैच के अधिकारी मिसरी 31 दिसंबर को पदभार ग्रहण करेंगे। मिसरी की रिपोर्टिंग राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल के पास होगी। वर्तमान में पंकज सारण के अतिरिक्त दो और डिप्टी एनएसए राजेंद्र खन्ना और दत्ता पंडसालगिकर भी डोभाल की टीम में है।

चीन से संबंध सुधारने पर जोर Taza hindi samachar
विक्रम मिसरी ने राजदूत के रूप में चीन से अपना कार्यकाल पूरा होने पर कहा था कि दोनों देश अपनी मौजूदा समस्याओं आपसी बातचीत से निकालें। चीन के विदेश मंत्री वांग यी से ऑनलाइन मीटिंग के दौरान कहा था कि कुछ परिस्थितयों के चलते दोनों ही देशों में गतिरोध बढ़ा था।

रावत लेंगे विक्रम की जगह
चीन में विक्रम मिसरी की जगह राजदूत प्रदीप कुमार रावत को नियुक्त किया है। भारतीय विदेश सेवा के 1990 बैच के अधिकारी हैं प्रदीप रावत। चीन से पहले प्रदीप रावत नीदरलैंड्स् में भारत के राजदूत थे। रावत चीनी भाषा बोलने में भी प्रवीण हैं। प्रदीप रावत 2014 से 2017 तक दिल्ली के विदेश मंत्रालय में पूर्वी एशिया विभाग के संयुक्त सचिव भी रह चुके हैं।

Latest News