सरकार ने कई योजनाओं पर किया बड़ा ऐलान, खुशी से झूम उठे लोग, आप भी उठाएं तगड़ा फायदा

नई दिल्लीः Small Savings Scheme Interest Rate: हमारे देश की सरकार समय-समय पर ऐसी कई योजनाएं निकालती है जिस पर निवेश करने से आम जनता को लाभ होता है और उनकी आर्थिक मदद होती है. बात अगर स्माल सेविंग योजनाओं की करी जाए तो इसमें निवेश करने पर सरकार सालाना अच्छा ब्याज दर देती है जो जनता की आर्थिक मदद करता है. फिलहाल सरकार ने नए साल पर बड़ा और बंपर मुनाफा देते हुए सभी स्मॉल सेविंग स्कीम्स को लेकर एक बड़ा ऐलान कर डाला है.

आपको बता दे सरकार की तरफ से सभी स्मॉल सेविंग स्कीम्स ( Small Saving Schemes) के रेट ऑफ इंटरेस्ट (Rate Of Interest) बढ़ा दिए गए हैं जो आमजन के लिए एक बहुत बड़ी खुशखबरी है. चलिए विस्तार से आपको बताते हैं कि कौन-कौनसी सेविंग स्कीम्स पर कितना कितना ब्याज दर सरकार की ओर से बढ़ाया गया है.

सभी स्माल सेविंग स्कीम पर ब्याज दर बढ़ाने की जानकारी देने से पहले आपको बता देते हैं कि पीपीएफ और सुकन्या समृद्धि स्कीम की ब्याज दरों में कोई बदलाव नहीं किया गया है जिसकी जानकारी हम अपनी पिछली खबर में भी दे चुके है. पीपीएफ ब्याज दरों से संबंधित अगर खबर पढ़ना चाहते हैं तो नीचे दिए हुए लिंक पर क्लिक करें…

PPF Account: पीपीएफ खाताधारकों पर टूटा दुखों का पहाड़, सरकार ने लिया ऐसा फैसला कि छलक आएं आंसू

 

सुकन्या समृद्धि योजना के बारे में और उसके ब्याज दरों के बारे में जानकारी चाहते हैं तो नीचे दिए हुए लिंक पर क्लिक करें..

Government Scheme: सरकार ने बेटियों के लिए किया बड़ा ऐलान, इस स्कीम में निवेश पर मिल रहा छप्परफाड़ फायदा

Small Saving Schemes Rate Of Interest

सरकार की तरफ से जिन भी स्मॉल सेविंग स्कीम्स के ब्याज दर बढ़ाने की बात की गई है वह सभी एक जनवरी से लागू हो जाएंगे. 1 साल की सेविंग्स स्कीम पर ब्याज दर बढ़ाकर 6.6% की गई है, जो पहले 5.5 प्रतिशत थी. जबकि 2 साल की स्कीम पर 6.8% की दर से ब्याज मिलेगा, जो पहले 5.7 प्रतिशत था. 3 साल की स्कीम पर ब्याज दर बढ़कर 6.9% हो गई है, जो पहले 5.8 प्रतिशत थी. बात अगर 5 साल वाली स्कीम की करें तो 5 साल की स्कीम पर 7% ब्याज की दर से ब्याज मिलेगा, जो पहले 6.7 प्रतिशत होती थी. यानी हर साल के ब्याज दर को बड़ा दिया गया है.

आपको बता दें लगभग 4 से 5 साल बाद सरकार ने पिछली तिमाही में कुछ छोटी बचत योजनाओं की ब्याज दरों में बढ़ोतरी की थी.