Nursing course: कोरोना संक्रमण के कारण नर्सिंग सेक्टर डिमांड में है। देशभर में नर्सों की आपातकालीन नियुक्तियों का परिदृश्य दिखाई दे रहा है। यही वजह है कि सरकारी और निजी विभिन्न क्षेत्रों में मेडिकल स्टाफ की नियुक्तियां जारी हैं।

कॅरियर के अवसर
नर्सों के लिए बड़ी संख्या में नौकरी के मौके सरकारी/निजी अस्पतालों, अनाथाश्रम, वृद्धाश्रम, आरोग्य निवास एवं रक्षा सेवाओं, इंडियन रेड-क्रॉस सोसाइटी आदि में हैं। यूएस, कनाडा, इंग्लैंड तथा मिडिल ईस्ट सहित दुनिया के विभिन्न देशों में नर्सों के लिए अच्छे वेतन व सुविधाओं के साथ कॅरियर के काफी मौके उपलब्ध हैं।

नर्स की भूमिका
हॉस्पिटल, नर्सिंग होम आदि में नर्सिंग का काम करने वाले को जनरल नर्स कहते हैं। इनके मुख्य कार्य में डॉक्टर के काम में सहयोग, मरीजों की देखभाल आदि शामिल हैं। मिडवाइफ वे नर्स होती हैं जिनकी विशेषज्ञता गर्भवतियों का खयाल रखना और बच्चों के जन्म में सहायता करना है। ग्रामीणों को चिकित्सकीय सेवाएं देने वाले नर्सिंग से जुड़े युवा हैल्थ वर्कर कहलाते हैं।

शैक्षणिक योग्यता
न र्सिंग में कॅरियर बनाने के लिए फिजिक्स, केमेस्ट्री और बायोलॉजी (पीसीबी) विषयों से बारहवीं पास होना जरूरी है। इस क्षेत्र में डिग्री, डिप्लोमा और सर्टिफिकेट आदि कोर्स कराए जाते हैं। बीएससी (नर्सिंग) कोर्स का विशेष आकर्षण है। यह चार वर्ष का है। जनरल नर्सिंग एंड मिडवाइफरी (जीएनएम) के लिए भी न्यूनतम योग्यता बारहवीं है। यह तीन वर्ष का कोर्स है। सहायक नर्स मिडवाइफ/ हैल्थ वर्कर (एएनएम) का डिप्लोमा कोर्स दो वर्ष का है तथा न्यूनतम योग्यता 10वीं पास है।

Latest News