Banswara Lok Sabha Election 2019 Rajasthan
Banswara Lok Sabha Election 2019 Rajasthan

बांसवाड़ा लोकसभा चुनाव 2019 की बात करें तो यहाँ से वर्तमान सांसद मानशंकर निनामा हैं। मानशंकर निनामा पहली बार लोकसभा सदस्य चुने गए हैं। निनामा की बात करें तो इन्होने राजनीती करियर की शुरुआत सरपंच से की थी। 15 वर्ष सरपंच रहने के बाद निनामा ने पंचायत समिति सदस्य का चुनाव लड़ा और कार्यकाल पूरा किया। 2000 से 2005 तक जिला परिषद सदस्य चुने गए। 2005 से घाटोल के प्रधान बने। राजनीती करियर और अनुसूचित जाति में अच्छी छवि के के कारण भारतीय जनता पार्टी ने भरोसा जताया। जनता से जुड़े हुए नेता के तौर पर भी निनामा की अच्छी पकड़ है। 2014 में लोकसभा चुनाव जीतकर बांसवाड़ा सीट को भाजपा की झोली में डाला।

बांसवाड़ा लोक सभा चुनाव 2019 राजस्थान की बात करें तो यहाँ से अब तक भारतीय जनता पार्टी दो बार सत्ता में आई है। पिछली बार यहाँ से कांग्रेस के ताराचंद भगोरा सांसद थे। ताराचंद भगोरा का राजनीती में अच्छा अनुभव रहा है। ताराचंद भगोरा तीन बार सांसद रह चुके हैं। पिछले चुनाव में धनसिंघ रावत का टिकट काट दिया गया और मानशंकर निनामा को पार्टी ने मैदान में उतार दिया। पिछले चुनाव में मोदी लहर ने ही राजस्थान की 25 सीटें भाजपा की झोली में डाली थी। इसबार मोदी लहर का असर भी थोड़ा कम हो गया है। देखा जाए तो बांसवाड़ा में प्रभुलाल रावत कांग्रेस के प्रबल दावेदार हैं। Dungarpur Sagwara Chorasi Ghatol Garhi Banswara Bagidora Kushalgarh विधानसभा सीट इस संसदीय क्षेत्र में आती हैं। विधानसभा क्षेत्रों की बात करें तो कांग्रेस दोनों ही बराबर सीटों पर कब्ज़ा जमाये हुए हैं। अन्य दल का भी कब्ज़ा कुछ सीटों पर हैं।

बांसवाड़ा लोक सभा चुनाव 2019 में कांग्रेस द्वारा काबिल कैंडिडेट मैदान में उतरा जाता है तो भाजपा को नुक्सान जरूर होगा। एक विधायक का टिकट भी काट दिए जाने से भाजपा को नुक्सान हो सकता है। निनामा के सामने कांग्रेस भी अच्छे कैंडिडेट का चयन करेगी। भाजपा कैंडिडेट लोकसभा चुनाव 2019 में निनामा के स्थान पर नया चेहरा भी लाया जा सकता हैं। विकास और जनता के बीच निनामा का जादू नहीं चला है। जनता के लिए धन सिंह रावत जैसे चर्चित नाम विवादों में होने के कारण भी थोड़ा वोट बैंक टुटा है। भाजपा ने इसबार सरकार में मंत्री रहे विधायक धन सिंह रावत का टिकट काट दिया था। Banswara Lok Sabha Election 2019 इसबार नाराज नेताओं को मनाने के लिए जाने जाएंगे। धन सिंह रावत पर भी पार्टी दांव खेल सकती है। कांग्रेस की तरफ से दावेदार की मजबूती को देखते हुए निनामा का विकल्प बरक़रार भी रह सकता हैं।

Lok Sabha Election 2019 Rajasthan

राजस्थान में इसबार कांग्रेस की सरकार आने के साथ ही जनता ने ये मान लिया कि लोक सभा चुनाव 2019 में राजस्थान भाजपा को 17 सीटों के लगभग ही दे पाएगा। जनता के मन की बात करें तो राजस्थान लोक सभा चुनाव 2019 में मोदी लहर और सोशल मीडिया की भूमिका फिर से भाजपा को 22 के करीबन सीटें दिलाने में कामयाब हो सकते हैं। सोशल मीडिया के प्रभाव से जनता के मानस पर कोई भी विपक्षी पार्टी का प्रभाव नहीं पड़ा हैं। सोशल मीडिया और मोदी के भाषणों का जादू इसबार भी सर चढ़कर बोलेगा। केंद्र में सरकार भाजपा बहुमत की न हो, मगर एनडीए से बन जाएगी। राजस्थान में डूंगरपुर बांसवाड़ा लोक सभा चुनाव भी भाजपा की जीत के पक्ष में हो सकते हैं। Banswara Lok sabha Candidate Name की घोषणा के बाद ही छवि साफ़ दिखाई देगी।

Latest News